शर्त [Shart]

थी एक ही ख्वाइश जिंदगी में, कि खुशियाँ कभी तेरी कम न हो…

खुदा ने मंज़ूर तो कर ली ये गुजारिश मेरी…

एक शर्त खुदा ने भी रख्खा, कि उन खुशियों में शामिल हम न हो..

ज़िन्दगी तेरी ज़िन्दगी में शामिल कर चुका था मैं…

क्यूँ भटक कर उस खुदा के दर पे चला गया…

कब से तो तुझे अपना खुदा कर चुका था मैं…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: